2024-05-29

दर दर भटकने के बाद ललित ने दिया सहारा तो अग्निवीर बनकर लौटा बागेश्वर का मुकुल

bageshwar youth became agniverer after lalit joshi's efforts

रैबार डेस्क: बागेश्वर के दो भाइयों की कहानी आपको याद होगी। कोविड के दौर में पिता की मौत के बाद देहरादून में मकान मालिक ने उन्हें घर से निकाल दिया। फिर ब्रेन हेमरेज मां की मौत होने से दोनों भाई दर-दर की ठोकरें लगे। ऐसे में ऐन वक्त पर कंबाइंड पीजी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस एंड रिसर्च (CIMSR) के चेयरमैन ललित जोशी दोनों की मदद को आगे आए। अपने इंस्टीट्यूट में ही शरण दी और उनकी पढ़ाई को प्रोत्साहित किया। आज उनमें से एक भाई मुकुल अग्निवीर की ट्रेनिंग पूरी करके लौटा है। जबति छोटा भाई होटल मैनेजमेंट की डिप्लोमा करने के बाद जॉब ट्रेनिंग कर रहा है।

रविवार को बागेश्वर निवासी मुकुल जोशी सेना की वर्दी पहनकर जब CIMSR पहुंचा तो चेयरमैन ललित जोशी का सीना गर्व से फूल गया। ललित जोशी बताते हैं कि उन्हें जब दोनों भाईयों के मुफलिसी के बारे में पता चला था तो उन्होंने मुकुल और सूरज को अपने पास बुलाया था और उन्हें पढ़ाई से लेकर करियर बनाने, रहने, खाने तक की पूरी मदद देने का वादा किया। सेना के अग्निवीर बने मुकुल के मुताबिक पिता पटेलनगर में ठेली लगाते थे। कोरोना में सब बंद हो गया, तो पिता डिप्रेशन में आ गए और उनकी मौत हो गई। फिर मां बीमार रहने लगी और 2022 में मां की मौत के बाद दोनों भाई पूरी तरह सड़क पर आ गए। मकान मालिक ने सामान तक जब्त कर लिया। कई रातें रेलवे स्टेशन, बस अड्डे और सब्जी मंडी में खुले में गुजारीं। इस बीच ललित मोहन जोशी उनकी मदद के लिए आगे आए और उनकी मदद से दोनों भाई आज अपने पांव पर खड़े हो गए हैं।

मुकुल रानीखेत में अग्निवीर भर्ती में शामिल हुए, ललित जोशी की मदद से मिली ट्रेनिंग और हौसले से वह भर्ती हो गए। छह महीने की ट्रेनिंग पूरी करने के बाद छुट्टी मिली तो रविवार को सबसे पहले उनसे ही मिलने के लिए दून पहुंचे। ललित मोहन जोशी ने मुकुल को उसकी कामयाबी पर बधाई दी है, साथ ही कहा कि उनका इंस्टीट्यूट जरूरतमंद बच्चों की पढ़ाई के लिए किए जा रहे अपने प्रयासों को यूं ही जारी रखेगा, ताकि वे अपने सपनों को पूरा कर सकें।

बता दें कि ललित जोशी ने 300 अनाथ और बेहद ही गरीब बच्चों को मुफ्त में उच्च व्यावसायिक शिक्षा देने का बीडा़ उठाया है। ऐसे बच्आचों को ललित न सिर्फ अपने संस्थानों में पढ़ाएंगे बल्कि उनके रहन सहन की भी व्यवस्था कर रहे हैं। भी इन मेहनती बच्चों की लगन और मेहनत के साथ साथ CIMSR के चेयरमैन ललित जोशी के प्रयासों को बार बार नमन कीजिए जो समाज सेवा के मिशन में दिन रात जुटे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed