2022-11-26

जहरीली शराब कांड में थी फरार, फिर 1 वोट से जीती प्रधान का चुनाव, चुनाव जीतते ही हुई गिरफ्तार

babli pradhan arrested in illicit liquor case

रैबार डेस्क: लोकतंत्र का अजीब किस्सा है। पहले आपराधिक छवि के मुकदमेबाज चुनावों में शराब बंटवाते हैं और मौत का खेल खेलते हैं। फिर आपके विवेकहीन वोटों से जनप्रतिनिधि भी बन जाते हैं। हरिद्वार पंचायत चुनाव में भी ऐसा वाकया सामने आया है। (newly elected Gram pradhan the second accused in illicit liquor case babli devi arrested)पथरी क्षेत्र में जहरीली शराब कांड में सहआरोपी बबली प्रधान मात्र एक वोट से चुनाव जीत गई, लेकिन जैसे जीत की खुशी मना पाती, पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

आफको बता दें कि 10 सितंबर को हरिद्वार के पथरी क्षेत्र में जहरीली शराब पीने से 12 लोगों की मौत हो गई थी। इस कांड में शराब पिलाने के आरोपी विजेंद्र को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था, जबकि विजेंद्र की पत्नी बबीता उर्फ बबली अभी तक फरार ही चल रही थी। हाल ही हुए पंचायत चुनाव में बबली ने शिवनगर ग्राम पंचायत से प्रधान का चुनाव लड़ा था। वह मात्र एक वोट से चुनाव भी जीत गई। लेकिन उसकी यह खुशी ज्यादा देर नही टिक सकी औऱ आखिरकार पुलिस के हत्थे चढ़ गई।

चुनाव जीतते ही पथरी पुलिस और एसआईटी ने बबीता को गुरुवार दोपहर उसके गांव से गिरफ्तार कर लिया। हालांकि अब पुलिस कीकार्यशैली पर भी सवाल उठने लगे हैं। ऐसा क्या था कि पुलिस अब तक चुप बैठी थी, जैसे ही बबली के चुनाव जीतने की खबर आई उसे अरेस्ट कर लिया गया। थानाध्यक्ष पथरी पवन डिमरी ने बताया कि फरार चल रही बबीता की तलाश में लगातार दबिश दी जा रही थी, लेकिन वह गिरफ्तार नहीं हो पा रही थी। गुरुवार को मुखबिर की सूचना पर इलाके से ही बबीता को गिरफ्तार कर लिया गया है। अब उसे न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया जाएगा।

मतगणना में बबली ने अपने प्रतिद्वंद्वी प्रत्याशी स्वाति से जीत दर्ज की। बबली को 855 और प्रतिद्वंद्वी स्वाती को 848 मत मिले लेकिन स्वाति ने री-काउंटिंग की अपील की। इस पर प्रशासन ने दोबारा मतगणना कराई। री-काउंटिंग में बबली को 859 वोट मिले, जबकि प्रतिद्वंद्वी स्वाती को 858 वोट मिले। बबली एक वोट से स्वाति को हराकर जीत गई। स्थानीय लोगों का कहना है था पंचायत चुनाव में वोटरों को लुभाने के लिए शराब का लालच दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed