20 कुंतल फूलों से सजा बद्रीनाथ धाम, कल बंद होंगे कपाट, अब तक 1.91 लाख यात्रियों ने किए दर्शन

badrinath dham portal closing ceremony

रैबार डेस्क: भू बैकुंठ बद्रीनाथ धाम के कपाट शीतकाल के लिए बंद करने की प्रक्रिया जारी है। कपाट बंदी पर पांच दिनों से विशेष पूजा अर्चना की जा रही है। (Badrinath Dham portal close 20 November) आज महालक्ष्मी की पूजा के साथ पंच पूजाओं में चार पूजाएं संपन्न हुई हैं। 20 नवंबर को कपाट बंद होने से पहले बद्रीनाथ भगवान की विशेष पूजा की जाएगी। कपाट बंदी के लिए बद्रीनाथ धाम को 20 कुंतल फूलों से सजाया गया है।

भगवान बदरीविशाल जी की पंच पूजाओं के अंतर्गत शुक्रवार को मां लक्ष्मी जी की पूजा हुई। तथा उन्हें श्री बद्रीनाथ मंदिर आने की प्रार्थना की गयी। रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी ने मां लक्ष्मी माता को स्त्रेण भेष में बुलावा भेजा। कल 18 नवंबर को खडग पुस्तक पूजन हुआ तथा शीतकाल हेतु वेद ऋचाओं का पाठ बंद हो गया।

इस अवसर पर रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी, देवस्थानम बोर्ड के उपमुख्य कार्यकारी अधिकारी बी.डी. सिंह, धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल एवं आचार्यगण तथा सुनील तिवारी, राजेन्द्र चौहान, भूपेंद्र रावत, डा. हरीश गौड़, संजय भट्ट, कृपाल सनवाल, हरीश जोशी सहित तीर्थयात्री मौजूद रहे। आज बड़ी संख्या में तीर्थयात्री मंदिर पहुंचे।

कल 20 नवंबर को कपाट बंद होने के अवसर हेतु मंदिर को 20 कुंतल फूलों से सजाया जा रहा है। पुश्प सेवा समिति ने मंदिर को गेंदा गुलाब, कमल आदि सुंदर फूलों से सजाया है। कल चारधाम यात्रा का आधिकारिक रूप से समापन हो जाएगा। अन्य तीन धामों केकपाट पहले ही बंद कर दिए गए हैं। इस वर्ष अभी तक कुल 191106 तीर्थयात्रियों ने श्री बद्रीनाथ धाम के दर्शन किए हैं। इस वर्ष 2 लाख 42 हजार 712 यात्रियों ने केदारनाथ धाम के, 33166 श्रद्धालुओं ने गंगोत्री के तथा  श्री 33306 ने यमुनोत्री धाम के दर्शन किए हैं। इस वर्ष चारधाम आने वाले यात्रियों की संख्या 5 लाख 290 हो गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed