2022-11-26

फिर बढ़ सकती हैं विधानसभा के तदर्थ कार्मिकों की मुश्किलें, स्पीकर बोलीं, हाईकोर्ट के स्टे के खिलाफ डबल बेंच में जाएंगे

speaker to move double bench against HC stay

रैबार डेस्क: विधानसभा में बैकडोर से भर्ती हुए कार्मिकों की मुश्किलें फिर बढ़ सकती हैं। हाईकोर्ट ने विधानसभा में हुई तदर्थ नियुक्तियों को रद्द करने के स्पीकर रितु खंडूड़ी के फैसले पर रोक लगा दी थी। speaker to move double bench against stay of high court on vidhansabha recruitment अब स्पीकर खंडूड़ी का बयान आया है कि वे इस मामले में हाईकोर्ट की डबल बेंच का रुख करेंगी

स्पीकर रितु खंडूड़ी ने कहा है कि मैंने पहले भी स्पष्ट किया था कि विधानसभा में चोर दरवाजे से भर्ती किए गए कार्मिकों को हटाने का फैसला बिना किसी के दबाव में लिया गया है। लेकिन हाईकोर्ट ने इस फैसले पर स्टे लगा दिया था। स्पीकर खंडूड़ी का कहना है कि विधिक राय लेने के बाद स्टे के फैसले को हाईकोर्ट की डबल डबल बेंच में चुनौती दी जाएगी। स्पीकर ने ये भी साफ किया कि अभी तक किसी भी ऐसे कर्मचारी को दोबारा ज्वाइनिंग नहीं दी गई है।

आपको बता दें कि विधानसभा में चोर दरवाजे से नियुक्तियां की गई थी। नियुक्तियों के लिए मानकों को ताक पर रखा गया था। कई नेताओं के करीबियों और रिश्तेदारों को विधानसभा में नौकरियां मिली थी। मामला तूल पकडा तो विधानसभा स्पीकर रितु खंडूड़ी ने जांच बिठाई थी। जांच के बाद स्पीकर ने  2016 में हुईं 150 तदर्थ नियुक्तियों, 2020 में हुईं छह तदर्थ नियुक्तियों,2021 में हुईं 72 तदर्थ नियुक्तियों और उपनल के माध्यम से हुईं 22 नियुक्तियों को रद्द कर दिया था। इन 250 लोगों को नौकरी से निकाल दिया गया था, लेकिन ये शबी लोग हाईकोर्ट चले गए थे। हाईकोर्ट ने सभी कार्मिकों को नौकरी से निकाले जाने के फैसले पर स्टे लगा दिया था।

विधानसभा भर्ती घोटाला, कब क्या हुआ

– जुलाई 2022- यूकेएसएसएसी की भर्तियों के पेपर लीक की घटनाओं के साथ ही सोशल मीडिया में विधानसभा भर्तियों का मुद्दा उठना शुरू हुआ।

– अगस्त 2022- सोशल मीडिया में विधानसभा में हुई भर्तियों की सूची वायरल हुई, जिस पर पूर्व विस अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल के बयान के बाद विवाद गहरा गया।

– 28 अगस्त 2022- मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने विधानसभा अध्यक्ष से भर्तियों की जांच का अनुरोध किया। यह भी कहा कि सरकार की जहां आवश्यकता हो, सहयोग दिया जाएगा।

– 29 अगस्त 2022- पूर्व विधानसभा अध्यक्ष गोविंद सिंह कुंजवाल ने कहा, हां मैने अपने बेटे और बहू को नौकरी पर लगाया।

– 3 सितंबर 2022- विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी भूषण ने विधानसभा में हुई भर्तियों की जांच के लिए तीन सदस्यीय विशेषज्ञ जांच समिति का गठन किया।

22 सितंबर- जांच समिति की रिपोर्ट के आधार पर स्पीकर रितु खंडूड़ी ने ने 250 भर्तियां रद्द कर दी।

– 15 अक्टूबर- नैनीताल हाईकोर्ट ने नियुक्तियां रद्द करने के स्पीकर के फैसले पर रोक लगा दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed